Friday, April 12, 2024
HomeUncategorizedIncome Tax: इनकम विभाग ने जारी किये नए नियम, इतने रुपये की...

Income Tax: इनकम विभाग ने जारी किये नए नियम, इतने रुपये की प्रॉपर्टी खरीदने पर देना पड़ेगा टैक्स

Income Tax: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने नए इनकम टैक्स नियम जारी किए हैं। यदि आपने 30 लाख से अधिक की प्रॉपर्टी खरीदी है, तो आपको टैक्स भरना होगा। नए नियम अब प्रॉपर्टी की कीमत पर टैक्स लगाने का प्रावधान करते हैं। टैक्स भरने के लिए समय सीमा भी तय की गई है। यह नियम वस्तुत: अधिक धनी लोगों को ध्यान में रखकर लागू किए गए हैं। नए नियमों के अनुसार, संपत्ति की धनराशि पर टैक्स लगेगा। यह नियम बाजार में संपत्ति की कीमतों को नियंत्रित करने का उद्देश्य रखते हैं। इससे संपत्ति खरीदने वालों को सजा के रूप में टैक्स भरना होगा।

स्टेटमेंट ऑफ फाइनैंसियल ट्रांजेक्शन (SFT) 31 मई तक दाखिल करना होगा

Income Tax: 10 लाख रुपए के बचत खाते और 50 लाख रुपए के चालू खाते में जमा किये गए हैं। भूखंड या कोई संपत्ति 30 लाख रुपए से अधिक की खरीदी की गई है। ऐसी सूचनाएँ आयकर रिटर्न में नहीं दी गई हैं। ऐसे मामलों में आयकर विभाग को सूचना प्राप्त हो सकती है। अधिकारियों के अनुसार, SFT 31 मई तक दाखिल किया जाना चाहिए। यह सूचनाएँ संबंधित विभागों को पहुंची हो सकती हैं। वित्तीय वर्ष के स्टेटमेंट ऑफ फाइनैंसियल ट्रांजेक्शन 31 मई तक दाखिल करें। ऐसे मामलों में संबंधित विभागों को सूचित करना अनिवार्य है।

Dearness Allowance: केंद्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता होगा 3 लाख 14088 रुपए, आ गया अपडेट

Income Tax: ₹1 लाख तक का टैक्स बकाया भरने में टैक्सपेयर्स को मिलेगी इतनी छूट, जानें अपडेट

जवाब संतोषजनक नहीं मिला तो गहन जांच के बाद टैक्स की वसूली की जाएगी

  • ITR में जिन्होंने लेन-देन की जानकारी नहीं दी, उनका पता SFT से चलेगा।
  • जवाब संतोषजनक नहीं मिला तो गहन जांच के बाद टैक्स की वसूली की जाएगी।
  • SFT की जानकारी न देने पर रोज़ाना ₹1000 का जुर्माना लगेगा।
  • बैंक, रजिस्ट्री ऑफिस, वित्तीय संस्थान से SFT जानकारी मांगी गई है।
  • इसमें पैन या यूआईडी का उल्लेख होगा जो ITR भरने वालों तक पहुंचा सकता है।
  • ITR में अघोषित लेन-देन का जिक्र नहीं करने पर SFT डेटा के आधार पर नोटिस जारी किया जाएगा।
  • जवाब मांगने के बाद जिक्र नहीं किया गया तो टैक्स की वसूली की जाएगी।
  • इस प्रक्रिया के तहत, व्यक्ति को अपनी आधिकारिक जिम्मेदारी निभानी होगी ताकि कोई भी अपूर्णता ना हो।

जिनका होगा E Shram Card में नाम उनके लिए 1000 रूपए की नई क़िस्त जारी, यहाँ से पेमेंट लिस्ट चेक

किसान सम्मान निधि 27 फरवरी को मिलेगी, यूपी के इस जिले में लाभ से वंचित रह जाएंगे 1 लाख 14 हजार किसान

Income Tax: जवाब संतोषजनक मिला तो जांच बंद हो जाएगी

  • संतोषजनक जवाब मिलने पर जांच बंद होगी।
  • गड़बड़ी मिलने पर जुर्माना लगाया जाएगा।
  • SFT डेटा को लेटलतीफी किया जाता है।
  • 31 मई को डेडलाइन तय की गई है।
  • भूखंड और भवन की रजिस्ट्री कार्यालय में होती है।
  • 30 लाख रुपए से अधिक की प्रॉपर्टी खरीदी गई है।
  • बैंक, कोऑपरेटिव बैंक, एनबीएफसी, निधि, पोस्ट मास्टर जनरल आदि को जानकारी देनी होगी।
  • सभी कंपनियों को अपने उपभोक्ताओं का डेटा आयकर विभाग को देना होगा।

जिनका होगा ई-श्रम कार्ड उन कार्ड धारकों के खाते में फिर से ₹2000 आना शुरू, यहाँ से पेमेंट चेक करें | 

Income Tax: टैक्सपेयर्स को खुशखबरी, सीबीडीटी ने जारी किए आदेश, एक करोड़ टैक्सपेयर्स को मिली बड़ी राहत

टैक्स चोरी और अघोषित खर्च के खिलाफ नजर रखने के लिए नियम बनाए

Income Tax: आयकर विभाग ने टैक्स चोरी और अघोषित खर्च के खिलाफ नजर रखने के लिए नियम बनाए हैं। इसे SFT के माध्यम से ट्रैक किया जाता है। संस्थानों और संगठनों को खर्च की सीमा का पालन करना होता है। अधिक खर्च करने वालों के डेटा को आयकर विभाग के साथ साझा करना होता है। आयकर अधिकारी डेटा को व्यक्ति के ITR के साथ मिलाते हैं। अगर ITR में खर्च का उल्लेख नहीं है, तो वह अघोषित माना जाता है। ऐसे मामलों में, आयकर दाता को नोटिस दिया जाता है और जानकारी मांगी जाती है। यह प्रक्रिया टैक्स चोरी और अघोषित खर्च को रोकने में मदद करती है।

अगले 3 महीने में 9 लाख परिवारों को देंगे अबुआ आवास: चंपाई सोरेन

सातवें वेतन आयोग ने जारी किए नए आंकड़े, कर्मचारियों की सैलरी में 27 हजार रूपये की बढ़ोतरी

Income Tax: यह नियम लागू होगा

  • जमा या निकाले गए 10 लाख रुपए या उससे अधिक के लेनदेन को खाते में दर्ज किया जाएगा।
  • 10 लाख रुपए या उससे अधिक का बैंकर चेक या पे ऑर्डर बनवाने पर भी नियम लागू होगा।
  • 50 लाख रुपए या इससे अधिक के नकद लेनदेन को चालू खाते से किया जा सकता है।
  • एक वित्तीय वर्ष में 10 लाख रुपए से अधिक की FD कराने पर यह नियम लागू होगा।
  • 1 लाख रुपए से अधिक के क्रेडिट कार्ड का बिल नकद में भरने पर भी।
  • 10 लाख रुपए से अधिक के क्रेडिट कार्ड के बिल को किसी तरह से भरने पर भी।
  • 2 लाख रुपए से अधिक की नकद भुगतान करने पर भी नियम लागू होगा।
  • 30 लाख रुपए या अधिक की प्रॉपर्टी खरीदने पर भी यह नियम लागू होगा।

आयकर विभाग के सूत्रों ने बताया कि 2 हजार रुपए की नोटबदली के बाद बड़े स्तर पर अघोषित लेनदेन और प्रॉपर्टी खरीदारों का इनपुट मिला है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के फैसले के बाद कई ऐसे बैंक खातों में 10 लाख रुपए या इससे ज्यादा जमा कराए गए, जिनमें कभी बड़ा लेनदेन नहीं हुआ था। कई इलाकों में लोगों ने जमीन की खरीदारी भी खूब की है। यही कारण है कि आयकर विभाग ने इस बार SFT की डिटेल को लेकर ज्यादा सख्ती दिखाई है। आगे भी इस तरह के डेटा विभागों से मांगे जा सकते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular